Take Inspiration From Swami Vivekananda


Swami Vivekananda (film)

Swami Vivekananda (film) (Photo credit: Wikipedia)

From Times Of India

http://timesofindia.speakingtree.in/spiritual-blogs/seekers/philosophy/swami-vivekanandas-sayings

 

Swami Vivekananda is in the headlines for all the wrong reasons, because politicians today are maligning his name for their myopic purposes. However, one can, even today, take inspiration from his words:

1. Take up one idea. Make that one idea your life – think of it, dream of it, live on that idea. Let the brain, muscles, nerves, every part of your body, be full of that idea, and just leave every other idea alone. This is the way to success.

2. Be a hero. Always say, “I have no fear.” Tell this to everyone — “Have no fear.”
Fear is death, fear is sin, fear is hell, fear is unrighteousness, fear is wrong life. All the negative thoughts and ideas that are in the world have proceeded from this evil spirit of fear. Face the brute, which is a lesson for all life—face the terrible, face it boldly. The hardships of life fall back when we cease to flee before them.

3. We must have friendship for all; we must be merciful toward those that are in misery; when people are happy, we ought to be happy; and to the wicked we must be indifferent. These attitudes will make the mind peaceful.

4. Fill the brain with the high thoughts, the highest ideals, place them day and night before you, and out of that will come great work. Who will give the world light? Sacrifice in the past has been the Law, it will be, alas, for ages to come. The earth’s bravest and best will have to sacrifice themselves for the good of many, for the welfare of all.

5. Truth, purity, and unselfishness – whenever these are present, there is no power below or above the sun to crush the possessor thereof. Equipped with these, one individual is able to face the whole universe in opposition.

6. Everything can be sacrificed for truth, but truth cannot be sacrificed for anything.
Strength is the sign of vigour, the sign of life, the sign of hope, the sign of health, and the sign of everything that is good. As long as the body lives, there must be strength in the body, strength in the mind, strength in the hand.

7. Great work requires great and persistent effort for a long time. Character has to be established through a thousand stumbles. As different streams having different sources all mingle their waters in the sea, so different tendencies various though they appear, crooked or straight, all lead to God.

8. So long as millions live in hunger and ignorance, I hold every person a traitor who, having been educated at their expense, pays not the least heed to them.

9. We are what our thoughts have made us; so take care about what you think. Words are secondary. Thoughts live; they travel far.

10. Stand up, be bold, be strong. Take the whole responsibility on your own shoulders, and know that you are the creator of your own destiny. All the strength and succour you want is within yourselves. Therefore, make your own future.

11. Do not believe in a thing because you have read about it in a book. Do not believe in a thing because another man has said it was true. Do not believe in words because they are hallowed by tradition. Find out the truth for yourself. Reason it out. That is realization.

Advertisements

Vedas became omniform for all periods of time


The Rig Veda is one of the oldest religious te...

Image via Wikipedia

By Prem Sabhlok

Via e-mail

Swami Viveknanda had said that religion is a spiritual science. Many contemporary gurus, swamis, pujaris and priests are not able to explain the concept of spiritual science. But most of them agree that the Vedas are the supreme scriptures of Hindus. The Bhagavad-Gita mentions that study of Vedas is the highest virtue. Adi Granth Sahib says Asankh grantha mukhi Vedpatha. There are innumerable scriptures but Vedic study is the supreme.

Sad-Darshana (six schools of Indian philosophy),  based on Vedic metaphysics and Vedic Ishta theory-paths, aim at welfare of mankind. They have made it amply clear that to know the concept of religion as spiritual science, the study of the Vedas is essential. To avoid spread of pious forgeries in the society, Swami Dayananda had suggested study and propagation of Vedic knowledge for the Aryans (noble people).

After the study of the Vedas through English translation of mantras, riks, hymns and even some verses, it was apparent the religion as spiritual science is dharma and it is an institution of social, moral, ethical and spiritual uplift of mankind. It is based on certain principles of spiritual science relating to Rta (cosmic laws of Nature), ideal mosaic society where people follow four divine professions (chatvar varnas) allotted through the Vedic education system based on merit, ability and aptitude and certainly not by birth.

The concept of guru —  Gu means darkness and Ru means to dispel —  dispeller of inner and outer darkness as a preceptor, the cosmic delusion (maya), the difference between soul, manifested soul, spirit and their respective roles, prakrti (divine Nature), the ineffable and formless Supreme Reality Brahman, the cosmic word “Om” (Shabd Brahma) cause of origin of the universe, physical sciences and scientific temper and many other subjects and concepts have been explained in the context of dharma as spiritual science.

In the social aspect of dharma, the Vedas refer to healthy community life through sabha and vidhta, local self-governance, iddm nan mmam — enlightened liberalism (nothing for self all for society), etc.

With regard to the moral aspect hydra-headed corruption with nine heads and 99 sources of entry in the human body is mentioned and solution thereof to eliminate corruption.

On the ethical aspect of dharma, trivarga (three kinds of value systems are explained) and as regard spiritual side of dharma harmonized divine, spiritual and material knowledge (para jnan) is explained in great details.

After study of the Vedas, I wrote Glimpses of Vedic Metaphysics as a part of Vedic spiritual science. Hence the book is by a commoner for the common human beings and seekers of Vedic knowledge, who may not have time to study over 17,000 mantras/riks in all the four Vedas, but are keen to know what these shrutis contain. The Atharva Veda clearly mentions when soul was provided to the human beings, the Vedas were revealed (hence shrutis).

Thus the Vedas became omniform for all periods of time. The study of the Vedas can save simple, honest and God-loving people from the pious forgeries of “leaders of hope” like miracles, breaking unity into diversity of cults/sects or even declaring Veda mantras have secret divine power.

Instead of publishing the book and commercially pricing it, I opted for putting it on the Internet for online reading and even taking print at no cost. It is available on http://www.sabhlokcity.com/metaphysics. The book can be accessed through google.com, yahoo.com, lulu.com search for the book or just Vedic Metaphysics.

Smile Philosophy


Rules to Live By…..

Some Times : Santosh Bhatt

Smile reveals the world to us. Body and soul crave it. It triggers in our heart the sensations of love. Smiles feed us, supplying the energy for us to grow.

It inspires us with dreams and hopes.

Smiles cast an aura of mystery and beauty in the face of those who smile. Faces lit with smiles enlighten the whole world.

Smile is almost like air. A human would no longer linger over the concept of smile than a fish would ponder over the notion of water.

But people are smiling less and less these days. Why are people smiling less? And what can be done about it?

The answer is that nobody knows. The reason nobody knows is a flipside of the Human behavior – its uncertain nature.

In theory, solving this sort of problem is easy.

Connect to life by doing things you never thought possible. Spend more time with family and friends. Now you can really start living. And ultimately you will smile.

But in reality it is very difficult to smile when you are having multidimensional problems throttling your neck all the time.

Furthermore, not every man or woman who smiles is happy. Nor every man or woman who doesn’t smile is sad.

Such is the mystery of life, my friend.

But remember, sometimes, when we cry, we shed happiness instead of tears, and therein lies the true test of heart and the hearts character.

It’s easy to shed happiness, but it’s tough to gather it thereafter.

Sometimes it takes a moment, an hour, a day or a week but at times, you may not be able to gather them at all after years and years.

Take care of your happiness, no matter how tiny they are – they’re as precious as the dawn.

Isn’t life all about challenges and wouldn’t it be nice to grow old with few more laugh lines?

It’s easy if you know how to make more friends and fewer foes with your humbleness and attitude.

Hence, greet the unhappy face, with a beautiful smile.

Treat the scorched ears, with the jingle of rhapsody. Feed the desiccated heart, with the fountain of love. Extinguish the darkness, with the lamp of perception. Heal the sore of the wounded, with the balm of compassion. Escort the estranged soul, with the cohort of hope.

Solve the violent problem, with a non-violent solution.

Bathe the desert of malice, with the dew of harmony. Chop the branches of woe with the sickle of laughter. Enshroud the smoggy mind, with the luminous rays of humanity. Demolish the mansion of falsehood, with the bull-dozer of truth. Add meaning to your life, by subtracting the egos one by one.

Paint the canvas of your dreams, with the blood of your sweat for you are the Picasso of your own life.

Life, yes, it is not the distance between the cradle and the grave.

It is the borderless edge. You never know how far you will reach or how soon you shall fall in the pit.

So cheer up, smile often and make yourself necessary to yourself and you will never be sad, my friend!

What is Yantra (यन्त्र) ? The Sanskrit Word


What is Yantra (यन्त्र)  ? The Sanskrit Word
  • Yantra (यन्त्र) is the Sanskrit word for “instrument” or “machine”. Much like the word “instrument” itself, it can stand for symbols.Yantra function as revelatory conduits of cosmic truths. Yantra, as instrument and spiritual technology,it is prototypical and esoteric concept mapping machines or conceptual looms. Certain yantra are he……ld to embody the energetic signatures of, for example, the Universe, consciousness, ishta-devata. Mantras, the Sanskrit syllables inscribed on yantras, are essentially “thought forms” representing divinities or cosmic powers, which exert their influence by means of sound-vibrations.

    Symbols employed in yantrasShapes and patterns commonly employed in yantra include squares, triangles, circles and floral patterns but may also include more complex and detailed symbols, for instance:

    The lotus flower typically represent chakras, with each petal representing a psychic propensity (or vritti) associated with that chakra
    A dot, or bindu, represents the starting point of creation or the infinite, unexpressed cosmos
    The şaţkoņa (Sanskrit name for a symbol identical to the star of David) composed of a balance between:
    An upwards triangle denoting action (or service), extroversion, masculinity or Shiva
    A downwards triangle denoting introversion, meditativeness, goddess energy or Shakti

    Geometric element meanings:

    Circle = Energy of the element water
    Square = Energy of the element earth
    Triangle = Energy of the element fire
    Diagonal lines = Energy of the element air
    Horizontal line = Energy of the element water
    Vertical line = Energy of the element fire
    Point = Energy of the element ether

    As an astrological deviceYantra may be used to represent the astronomical position of the planets over a given date and time. It is considered auspicious in Hindu{Sanatan Dharm} mythology. These yantras are made up on various objects i.e. Paper, Precious stones, Metal Plates and alloys. It is believed that constantly concentrating on the representation helps to build fortunes, as planets have their peculiar gravity which governs basic emotions and karma. These yantras are often made on a particular date and time according to procedures defined in the vedas.

    This one above is Shri Yantra

     

वेदों में गोमांस?


The Rig Veda is one of the oldest religious te...

Image via Wikipedia

This awsome article is from Brother Arya   Agniveer  Site reproduced as it was written for readers knowledge and to clear propaganda of Anti Hindu web sites Sam Hindu

वेदों में गोमांस?

May 9, 2011 By aryamusafir
2
Comments

Kindly review What does Agniveer
stand for
to understand the overall perspective behind any article on
Agniveer site. Thanks.

 वेदों में गोमांस? Agniveerयहां प्रस्तुत सामग्री वैदिक शब्दों के आद्योपांत और
वस्तुनिष्ठ विश्लेषण पर आधारित है, जिस संदर्भ में वे वैदिक शब्दकोष, शब्दशास्त्र,
व्याकरण तथा वैदिक मंत्रों के यथार्थ निरूपण के लिए अति आवश्यक अन्य साधनों में
प्रयुक्त हुए हैं | अतः यह शोध श्रृंखला मैक्समूलर, ग्रिफ़िथ,
विल्सन, विलियम्स् तथा अन्य भारतीय विचारकों के वेद और वैदिक भाषा के कार्य
का अन्धानुकरण नहीं है | यद्यपि, पश्चिम के वर्तमान शिक्षा जगत में वे काफ़ी
प्रचलित हैं, किंतु हमारे पास यह प्रमाणित करने  के पर्याप्त कारण हैं कि उनका
कार्य सच्चाई से कोसों दूर है | उनके इस पहलू पर हम यहां विस्तार से प्रकाश डालेंगे
|  विश्व की प्राचीनतम पुस्तक – वेद के प्रति गलत अवधारणाओं के विस्तृत विवेचन की
श्रृंखला में यह प्रथम कड़ी है |

हिंदूओं के प्राथमिक पवित्र धर्म-ग्रंथ वेदों में अपवित्र बातों के भरे होने का
लांछन सदियों से लगाया जा रहा है | यदि इन आक्षेपों को सही मान लिया जाए तो
सम्पूर्ण हिन्दू संस्कृति, परंपराएं, मान्यताएं सिवाय वहशीपन, जंगलीयत और क्रूरता
के और कुछ नहीं रह जाएंगी | वेद पृथ्वी पर ज्ञान के प्रथम स्रोत होने के अतिरिक्त
हिन्दू धर्म के मूलाधार भी हैं, जो मानव मात्र के कल्याणमय जीवन जीने के लिए
मार्गदर्शक हैं |

वेदों की झूठी निंदा करने की यह मुहीम उन विभिन्न तत्वों ने चला रखी है जिनके
निहित स्वार्थ वेदों से कुछ चुनिंदा सन्दर्भों का हवाला देकर हिन्दुओं  को दुनिया
के समक्ष नीचा दिखाना चाहते हैं | यह सब गरीब और अशिक्षित भारतियों से अपनी
मान्यताओं को छुड़वाने में काफ़ी कारगर साबित होता है कि उनके मूलाधार वेदों में
नारी की अवमानना, मांस- भक्षण, बहुविवाह, जातिवाद और यहां तक की गौ- मांस भक्षण
जैसे सभी अमानवीय तत्व विद्यमान हैं |

वेदों में आए त्याग या दान के अनुष्ठान के सन्दर्भों में जिसे यज्ञ भी कहा गया
है, लोगों ने पशुबलिदान को आरोपित कर दिया है | आश्चर्य की बात है कि भारत में
जन्में, पले- बढे बुद्धिजीवियों का एक वर्ग जो प्राचीन भारत के गहन अध्ययन का दावा
करता है, वेदों में इन अपवित्र तत्वों को सिद्ध करने के लिए पाश्चात्य विद्वानों का
सहारा लेता है |

वेदों द्वारा गौ हत्या और गौ मांस को स्वीकृत बताना हिन्दुओं की आत्मा पर
मर्मान्तक प्रहार है | गाय का सम्मान हिन्दू धर्म का केंद्र बिंदू है | जब कोई
हिन्दू को उसकी मान्यताओं और मूल सिद्धांतों में दोष या खोट दिखाने में सफल हो जाए,
तो उस में हीन भावना जागृत होती है और फिर वह आसानी से मार्गभ्रष्ट किया जा सकता है
|  ऐसे लाखों नादान हिन्दू हैं जो इन बातों से अनजान हैं, इसलिए प्रति उत्तर देने
में नाकाम होने के कारण अन्य मतावलंबियों के सामने समर्पण कर देते हैं |

जितने भी स्थापित हित – जो वेदों को बदनाम कर रहे हैं वे केवल पाश्चात्य और
भारतीय विशेषज्ञों तक ही सीमित नहीं हैं | हिन्दुओं में एक खास जमात ऐसी है जो
जनसंख्या के सामाजिक और आर्थिक रूप से पिछड़ें तबकों का शोषण कर अपनी बात मानने और
उस पर अमल करने को बाध्य करती है  अन्यथा दुष्परिणाम भुगतने की धमकी देती है |

वेदों के नाम पर थोपी गई इन सारी मिथ्या बातों का उत्तरदायित्व मुख्यतः
मध्यकालीन वेदभाष्यकार महीधर, उव्वट और सायण द्वारा की गई व्याख्याओं पर है तथा वाम
मार्गियों या तंत्र मार्गियों द्वारा वेदों के नाम से अपनी पुस्तकों में चलायी गई
कुप्रथाओं पर है | एक अवधि के दौरान यह असत्यता सर्वत्र फ़ैल गई और अपनी जड़ें गहराई
तक ज़माने में सफल रही, जब पाश्चात्य विद्वानों ने संस्कृत की अधकचरी जानकारी से
वेदों के अनुवाद के नाम पर सायण और महीधर के वेद- भाष्य की व्याख्याओं का वैसा का
वैसा अपनी लिपि में रूपांतरण कर लिया | जबकि वे वेदों के मूल अभिप्राय को समुचित
रूप समझने के लिए अति आवश्यक शिक्षा (स्वर विज्ञान), व्याकरण, निरुक्त (शब्द
व्युत्पत्ति शास्त्र), निघण्टु (वैदिक कोष), छंद , ज्योतिष तथा कल्प इत्यादि के
ज्ञान से सर्वथा शून्य थे |

अग्निवीर के आन्दोलन का उद्देश्य वेदों के बारे में ऐसी मिथ्या धारणाओं का
वास्तविक मूल्यांकन कर उनकी पवित्रता,शुद्धता,महान संकल्पना तथा मान्यता की स्थापना
करना है | जो सिर्फ हिन्दुओं के लिए ही नहीं बल्कि मानव मात्र के लिए बिना किसी
बंधन,पक्षपात या भेदभाव के समान रूप से उपलब्ध हैं |

१.पशु-हिंसा का
विरोध

यस्मिन्त्सर्वाणि  भूतान्यात्मैवाभूद्विजानत:

तत्र  को  मोहः  कः  शोक   एकत्वमनुपश्यत:

यजुर्वेद  ४०। ७

जो सभी भूतों में अपनी ही आत्मा को देखते हैं, उन्हें कहीं पर भी शोक या मोह
नहीं रह जाता क्योंकि वे उनके साथ अपनेपन की अनुभूति करते हैं | जो आत्मा के नष्ट न
होने में और पुनर्जन्म में विश्वास रखते हों, वे कैसे यज्ञों में पशुओं का वध करने
की सोच भी सकते हैं ? वे तो अपने पिछले दिनों के प्रिय और निकटस्थ लोगों को उन
जिन्दा प्राणियों में देखते हैं |

अनुमन्ता विशसिता निहन्ता क्रयविक्रयी

संस्कर्ता चोपहर्ता च खादकश्चेति घातकाः

मनुस्मृति ५।५१

मारने की आज्ञा देने वाला, पशु को मारने के लिए लेने वाला, बेचने वाला, पशु को
मारने वाला,

मांस को खरीदने और बेचने वाला, मांस को पकाने वाला और मांस खाने वाला यह सभी
हत्यारे हैं |

ब्रीहिमत्तं यवमत्तमथो माषमथो तिलम्

एष वां भागो निहितो रत्नधेयाय दान्तौ मा हिंसिष्टं पितरं मातरं च

अथर्ववेद ६।१४०।२

हे दांतों की दोनों पंक्तियों ! चावल खाओ, जौ खाओ, उड़द खाओ और तिल खाओ |

यह अनाज तुम्हारे लिए ही बनाये गए हैं | उन्हें मत मारो जो माता – पिता बनने की
योग्यता रखते हैं |

य आमं मांसमदन्ति पौरुषेयं च ये क्रविः

गर्भान् खादन्ति केशवास्तानितो नाशयामसि

अथर्ववेद ८। ६।२३

वह लोग जो नर और मादा, भ्रूण और अंड़ों के नाश से उपलब्ध हुए मांस को कच्चा या
पकाकर खातें हैं, हमें उन्हें नष्ट कर देना चाहिए |

अनागोहत्या वै भीमा कृत्ये

मा नो गामश्वं पुरुषं वधीः

अथर्ववेद १०।१।२९

निर्दोषों को मारना निश्चित ही महा पाप है | हमारे गाय, घोड़े और पुरुषों को मत
मार | वेदों में गाय और अन्य पशुओं के वध का स्पष्टतया निषेध होते हुए, इसे वेदों
के नाम पर कैसे उचित ठहराया जा सकता है?

अघ्न्या यजमानस्य पशून्पाहि

यजुर्वेद १।१

हे मनुष्यों ! पशु अघ्न्य हैं – कभी न मारने योग्य, पशुओं की रक्षा करो |

पशूंस्त्रायेथां

यजुर्वेद ६।११

पशुओं का पालन करो |

द्विपादव चतुष्पात् पाहि

यजुर्वेद १४।८

हे मनुष्य ! दो पैर वाले की रक्षा कर और चार पैर वाले की भी रक्षा कर |

क्रव्य दा – क्रव्य (वध से प्राप्त मांस ) + अदा (खानेवाला) = मांस भक्षक |

पिशाच — पिशित (मांस) +अस (खानेवाला) = मांस खाने वाला |

असुत्रपा –  असू (प्राण )+त्रपा(पर तृप्त होने वाला) =   अपने भोजन के लिए
दूसरों के प्राण हरने वाला |  |

गर्भ दा  और अंड़ दा = भूर्ण और अंड़े खाने वाले |

मांस दा = मांस खाने वाले |

वैदिक साहित्य में मांस भक्षकों को अत्यंत तिरस्कृत किया गया है | उन्हें
राक्षस, पिशाच आदि की संज्ञा दी गई है जो दरिन्दे और हैवान माने गए हैं तथा जिन्हें
सभ्य मानव समाज से बहिष्कृत समझा गया है |

ऊर्जं नो धेहि द्विपदे चतुष्पदे

यजुर्वेद ११।८३

सभी दो पाए और चौपाए प्राणियों को बल और पोषण प्राप्त हो |  हिन्दुओं द्वारा
भोजन ग्रहण करने से पूर्व बोले जाने वाले इस मंत्र में प्रत्येक जीव के लिए पोषण
उपलब्ध होने की कामना की गई है | जो दर्शन प्रत्येक प्राणी के लिए जीवन के हर क्षण
में कल्याण ही चाहता हो, वह पशुओं के वध को मान्यता कैसे देगा ?

२.यज्ञ में हिंसा का विरोध

जैसी कुछ लोगों की प्रचलित मान्यता है कि यज्ञ में पशु वध किया जाता है, वैसा
बिलकुल नहीं है | वेदों में यज्ञ को श्रेष्ठतम कर्म या एक ऐसी क्रिया कहा गया है जो
वातावरण को अत्यंत शुद्ध करती है |

अध्वर इति यज्ञानाम  – ध्वरतिहिंसा कर्मा तत्प्रतिषेधः

निरुक्त २।७

निरुक्त या वैदिक शब्द व्युत्पत्ति शास्त्र में यास्काचार्य के अनुसार यज्ञ का
एक नाम अध्वर भी है | ध्वर का मतलब है हिंसा सहित किया गया कर्म, अतः अध्वर का अर्थ
हिंसा रहित कर्म है | वेदों में अध्वर के ऐसे प्रयोग प्रचुरता से पाए जाते हैं
|

महाभारत के परवर्ती काल में वेदों के गलत अर्थ किए गए तथा अन्य कई धर्म –
ग्रंथों के विविध तथ्यों को  भी प्रक्षिप्त किया गया | आचार्य शंकर वैदिक मूल्यों
की पुनः स्थापना में एक सीमा तक सफल रहे | वर्तमान समय में स्वामी दयानंद सरस्वती –
आधुनिक भारत के पितामह ने वेदों की व्याख्या वैदिक भाषा के सही नियमों तथा यथार्थ
प्रमाणों के आधार पर की | उन्होंने वेद-भाष्य, सत्यार्थ प्रकाश,
ऋग्वेदादिभाष्यभूमिका तथा अन्य ग्रंथों की रचना की | उनके इस साहित्य से वैदिक
मान्यताओं पर आधारित व्यापक सामाजिक सुधारणा हुई तथा वेदों के बारे में फैली हुई
भ्रांतियों का निराकरण हुआ |

आइए,यज्ञ के बारे में वेदों के मंतव्य को जानें –

अग्ने यं यज्ञमध्वरं विश्वत: परि भूरसि

स इद देवेषु गच्छति
ऋग्वेद   १ ।१।४

हे दैदीप्यमान प्रभु ! आप के द्वारा व्याप्त हिंसा रहित यज्ञ सभी के लिए लाभप्रद
दिव्य गुणों से युक्त है तथा विद्वान मनुष्यों द्वारा स्वीकार किया गया है | ऋग्वेद
में सर्वत्र यज्ञ को हिंसा रहित कहा गया है इसी तरह अन्य तीनों वेद भी वर्णित करते
हैं | फिर यह कैसे माना जा सकता है कि वेदों में हिंसा या पशु वध की आज्ञा है ?

यज्ञों में पशु वध की अवधारणा  उनके (यज्ञों ) के विविध प्रकार के नामों के कारण
आई है जैसे अश्वमेध  यज्ञ, गौमेध यज्ञ तथा नरमेध यज्ञ | किसी अतिरंजित कल्पना से भी
इस संदर्भ में मेध का अर्थ वध संभव नहीं हो सकता |

यजुर्वेद अश्व का वर्णन करते हुए कहता  है –

इमं मा हिंसीरेकशफं पशुं कनिक्रदं वाजिनं वाजिनेषु

यजुर्वेद  १३।४८

इस एक खुर वाले, हिनहिनाने वाले तथा बहुत से पशुओं में अत्यंत वेगवान प्राणी का
वध मत कर |अश्वमेध से अश्व को यज्ञ में बलि देने का तात्पर्य नहीं है इसके विपरीत
यजुर्वेद में अश्व को नही मारने का स्पष्ट उल्लेख है | शतपथ में अश्व शब्द राष्ट्र
या साम्राज्य के लिए आया है | मेध अर्थ वध नहीं होता | मेध शब्द बुद्धिपूर्वक किये
गए कर्म को व्यक्त करता है | प्रकारांतर से उसका अर्थ मनुष्यों में संगतीकरण का भी
है |  जैसा कि मेध शब्द के धातु (मूल ) मेधृ -सं -ग -मे के अर्थ से स्पष्ट होता है
|

राष्ट्रं  वा  अश्वमेध:

अन्नं  हि  गौ:

अग्निर्वा  अश्व:

आज्यं  मेधा:

(शतपथ १३।१।६।३)

स्वामी  दयानन्द सरस्वती सत्यार्थ प्रकाश में लिखते हैं :-

राष्ट्र या साम्राज्य के वैभव, कल्याण और समृद्धि के लिए समर्पित यज्ञ ही
अश्वमेध यज्ञ है |  गौ शब्द का अर्थ पृथ्वी भी है | पृथ्वी तथा पर्यावरण की शुद्धता
के लिए समर्पित यज्ञ गौमेध कहलाता है | ” अन्न, इन्द्रियाँ,किरण,पृथ्वी, आदि को
पवित्र रखना गोमेध |”  ” जब मनुष्य मर जाय, तब उसके शरीर का विधिपूर्वक दाह करना
नरमेध कहाता है | ”

३. गौ – मांस का
निषेध

वेदों  में पशुओं की हत्या का  विरोध तो है ही बल्कि गौ- हत्या पर तो तीव्र
आपत्ति करते हुए उसे निषिद्ध माना गया है | यजुर्वेद में गाय को जीवनदायी पोषण दाता
मानते हुए गौ हत्या को वर्जित किया गया है |

घृतं दुहानामदितिं जनायाग्ने  मा हिंसी:

यजुर्वेद १३।४९

सदा ही रक्षा के पात्र गाय और बैल को मत मार |

आरे  गोहा नृहा  वधो  वो  अस्तु

ऋग्वेद  ७ ।५६।१७

ऋग्वेद गौ- हत्या को जघन्य अपराध घोषित करते हुए मनुष्य हत्या के तुल्य मानता है
और ऐसा महापाप करने वाले के लिये दण्ड का विधान करता है |

सूयवसाद  भगवती  हि  भूया  अथो  वयं  भगवन्तः  स्याम

अद्धि  तर्णमघ्न्ये  विश्वदानीं  पिब  शुद्धमुदकमाचरन्ती

ऋग्वेद १।१६४।४०

अघ्न्या गौ- जो किसी भी अवस्था में नहीं मारने योग्य हैं, हरी घास और शुद्ध जल
के सेवन से स्वस्थ  रहें जिससे कि हम उत्तम सद् गुण,ज्ञान और ऐश्वर्य से युक्त हों
|वैदिक कोष निघण्टु में गौ या गाय के पर्यायवाची शब्दों में अघ्न्या, अहि- और अदिति
का भी समावेश है | निघण्टु के भाष्यकार यास्क इनकी व्याख्या में कहते हैं -अघ्न्या
– जिसे कभी न मारना चाहिए | अहि – जिसका कदापि वध नहीं होना चाहिए | अदिति – जिसके
खंड नहीं करने चाहिए | इन तीन शब्दों से यह भलीभांति विदित होता है कि गाय को किसी
भी प्रकार से पीड़ित नहीं करना चाहिए | प्राय: वेदों में गाय
इन्हीं नामों से पुकारी गई है |

अघ्न्येयं  सा  वर्द्धतां  महते  सौभगाय

ऋग्वेद १ ।१६४।२७

अघ्न्या गौ-  हमारे लिये आरोग्य एवं सौभाग्य लाती हैं |

सुप्रपाणं  भवत्वघ्न्याभ्य:

ऋग्वेद ५।८३।८

अघ्न्या गौ के लिए शुद्ध जल अति उत्तमता से उपलब्ध हो |

यः  पौरुषेयेण  क्रविषा  समङ्क्ते  यो  अश्व्येन  पशुना  यातुधानः

यो  अघ्न्याया  भरति  क्षीरमग्ने  तेषां  शीर्षाणि  हरसापि  वृश्च

ऋग्वेद १०।८७।१६

मनुष्य, अश्व या अन्य पशुओं के मांस से पेट भरने वाले तथा दूध देने वाली अघ्न्या
गायों का विनाश करने वालों को कठोरतम दण्ड देना चाहिए |

विमुच्यध्वमघ्न्या देवयाना अगन्म

यजुर्वेद १२।७३

अघ्न्या गाय और बैल तुम्हें समृद्धि प्रदान करते हैं |

मा गामनागामदितिं  वधिष्ट

ऋग्वेद  ८।१०१।१५

गाय को मत मारो | गाय निष्पाप और अदिति – अखंडनीया है  |

अन्तकाय  गोघातं

यजुर्वेद ३०।१८

गौ हत्यारे का संहार किया जाये |

यदि  नो  गां हंसि यद्यश्वम् यदि  पूरुषं

तं  त्वा  सीसेन  विध्यामो  यथा  नो  सो  अवीरहा

अर्थववेद १।१६।४

यदि कोई हमारे गाय,घोड़े और पुरुषों की हत्या करता है, तो उसे सीसे की गोली से
उड़ा दो |

वत्सं  जातमिवाघ्न्या

अथर्ववेद ३।३०।१

आपस में उसी प्रकार प्रेम करो, जैसे अघ्न्या – कभी न मारने योग्य गाय – अपने
बछड़े से करती है |

धेनुं  सदनं  रयीणाम्

अथर्ववेद ११।१।४

गाय सभी ऐश्वर्यों का उद्गम है |

ऋग्वेद के ६ वें मंडल का सम्पूर्ण २८ वां सूक्त गाय की महिमा बखान रहा है –

१.आ  गावो अग्मन्नुत भद्रमक्रन्त्सीदन्तु

प्रत्येक जन यह सुनिश्चित करें कि गौएँ यातनाओं से दूर तथा स्वस्थ रहें |

२.भूयोभूयो  रयिमिदस्य  वर्धयन्नभिन्ने

गाय की  देख-भाल करने वाले को ईश्वर का आशीर्वाद प्राप्त होता है |

३.न ता नशन्ति न दभाति तस्करो नासामामित्रो व्यथिरा दधर्षति

गाय पर शत्रु भी शस्त्र  का प्रयोग न करें |

४. न ता अर्वा रेनुककाटो अश्नुते न संस्कृत्रमुप यन्ति ता अभि

कोइ भी गाय का वध न करे  |

५.गावो भगो गाव इन्द्रो मे अच्छन्

गाय बल और समृद्धि  लातीं  हैं |

६. यूयं गावो मेदयथा

गाय यदि स्वस्थ और प्रसन्न रहेंगी  तो पुरुष और स्त्रियाँ भी निरोग और समृद्ध
होंगे |

७. मा वः स्तेन ईशत माघशंस:

गाय हरी घास और शुद्ध जल क सेवन करें | वे मारी न जाएं और हमारे लिए समृद्धि
लायें |

वेदों में मात्र गाय ही नहीं  बल्कि प्रत्येक प्राणी के लिए प्रद्रर्शित उच्च
भावना को समझने  के लिए और  कितने प्रमाण दिएं जाएं ? प्रस्तुत प्रमाणों से सुविज्ञ
पाठक स्वयं यह निर्णय कर सकते हैं कि वेद किसी भी प्रकार कि अमानवीयता के सर्वथा
ख़िलाफ़ हैं और जिस में गौ – वध तथा गौ- मांस का तो पूर्णत: निषेध
है |

वेदों में गौ मांस का कहीं कोई विधान नहीं  है |

संदर्भ ग्रंथ सूची –

१.ऋग्वेद भाष्य – स्वामी दयानंद सरस्वती

२.यजुर्वेद भाष्य -स्वामी दयानंद सरस्वती

३.No Beef in Vedas -B D Ukhul

४.वेदों का यथार्थ स्वरुप – पंडित धर्मदेव विद्यावाचस्पति

५.चारों वेद संहिता – पंडित दामोदर सातवलेकर

६. प्राचीन भारत में गौ मांस – एक समीक्षा – गीता प्रेस,गोरखपुर

७.The Myth of Holy Cow – D N Jha

८. Hymns of Atharvaveda – Griffith

९.Scared Book of the East – Max Muller

१०.Rigved Translations – Williams\ Jones

११.Sanskrit – English Dictionary – Moniar Williams

१२.वेद – भाष्य – दयानंद संस्थान

१३.Western Indologists – A Study of Motives – Pt.Bhagavadutt

१४.सत्यार्थ प्रकाश – स्वामी दयानंद सरस्वती

१५.ऋग्वेदादिभाष्यभूमिका – स्वामी दयानंद सरस्वती

१६.Cloud over Understanding of Vedas – B D Ukhul

१७.शतपथ ब्राहमण

१८.निरुक्त – यास्काचार्य

१९. धातुपाठ – पाणिनि

परिशिष्ट, १४ अप्रैल २०१०

इस लेख के पश्चात् उन विभिन्न स्रोतों से तीखी प्रतिक्रिया हुई जिनके गले से यह
सच्चाई नहीं उतर सकती कि हमारे वेद और राष्ट्र की प्राचीन संस्कृति अधिक
आदर्शस्वरूप हैं बनिस्पत उनकी आधुनिक साम्यवादी विचारधारा के | मुझे कई मेल प्राप्त
हुए जिनमें इस लेख को झुठलाने के प्रयास में अतिरिक्त हवाले देकर गोमांस का समर्थन
दिखाया गया है | जिनमें ऋग्वेद से २ मंत्र ,मनुस्मृति के कुछ श्लोक तथा कुछ अन्य
उद्धरण दिए गए हैं | जिसका एक उदाहरण यहाँ अवतार गिल की टिप्पणी है | इस बारे में
मैं निम्न बातें कहना चाहूंगा –

a. लेख में प्रस्तुत मनुस्मृति के साक्ष्य में वध की अनुमति देने वाले तक को
हत्यारा कहा गया है | अतः यह सभी अतिरिक्त श्लोक मनुस्मृति में प्रक्षेपित ( मिलावट
किये गए) हैं या इनके अर्थ को बिगाड़ कर गलत रूप में प्रस्तुत किया गया है | मैं
उन्हें डा. सुरेन्द्र कुमार द्वारा भाष्य की गयी मनुस्मृति पढ़ने की सलाह दूंगा |
जो http : // vedicbooks.com
पर उपलब्ध है |

b. प्राचीन साहित्य में गोमांस को सिद्ध करने के उनके अड़ियल रवैये के कपट का एक
प्रतीक यह है कि वह मांस शब्द का अर्थ हमेशा मीट (गोश्त) के संदर्भ में ही लेते हैं
| दरअसल, मांस शब्द की परिभाषा किसी भी गूदेदार वस्तु के रूप में की जाती है | मीट
को मांस कहा जाता है क्योंकि वह गूदेदार होता है | इसी से, केवल मांस शब्द के
प्रयोग को देखकर ही मीट नहीं समझा जा सकता |

c. उनके द्वारा प्रस्तुत अन्य उद्धरण संदेहास्पद एवं लचर हैं जो प्रमाण नहीं
माने जा सकते | उनका तरीका बहुत आसान है – संस्कृत में लिखित किसी भी वचन को धर्म
के रूप में प्रतिपादित करके मन माफ़िक अर्थ किये जाएं | इसी तरह, वे हमारी पाठ्य
पुस्तकों में अनर्गल अपमानजनक दावों को भरकर मूर्ख बनाते आ रहें हैं |

d. वेदों से संबंधित जिन दो मंत्रों को प्रस्तुत कर वे गोमांस भक्षण को सिद्ध
मान रहे हैं, आइए उनकी पड़ताल करें –

दावा:- ऋग्वेद (१०/८५/१३) कहता है -” कन्या के विवाह अवसर पर गाय और बैल का वध
किया जाए | ”

तथ्य : – मंत्र में बताया गया है कि शीत ऋतु में मद्धिम हो चुकी सूर्य किरणें
पुनः वसंत ऋतु में प्रखर हो जाती हैं | यहां सूर्य -किरणों के लिए प्रयुक्त शब्द
’गो’ है, जिसका एक अर्थ ‘गाय’ भी होता है | और इसीलिए मंत्र का अर्थ करते समय
सूर्य – किरणों के बजाये गाय को विषय रूप में लेकर भी किया जा सकता है | ‘मद्धिम’
को सूचित करने के लिए ‘हन्यते’ शब्द का प्रयोग किया गया है, जिसका मतलब हत्या भी हो
सकता है | परन्तु यदि ऐसा मान भी लें, तब भी मंत्र की अगली पंक्ति (जिसका अनुवाद
जानबूझ कर छोड़ा गया है)  कहती है कि -वसंत ऋतु में वे अपने वास्तविक स्वरुप को पुनः
प्राप्त होती हैं | भला सर्दियों में मारी गई गाय दोबारा वसंत ऋतु में पुष्ट कैसे
हो सकती है ? इस से भली प्रकार सिद्ध हो रहा है कि ज्ञान से कोरे कम्युनिस्ट किस
प्रकार वेदों के साथ पक्षपात कर कलंकित करते हैं |

दावा :- ऋग्वेद (६/१७/१) का कथन है, ” इन्द्र गाय, बछड़े, घोड़े और भैंस का मांस
खाया करते थे |”

तथ्य :- मंत्र में वर्णन है कि प्रतिभाशाली विद्वान, यज्ञ की अग्नि को प्रज्वलित
करने वाली समिधा की भांति विश्व को दीप्तिमान कर देते हैं | अवतार गिल और उनके
मित्रों को इस में इन्द्र,गाय,बछड़ा, घोड़ा और भैंस कहां से मिल गए,यह मेरी समझ से
बाहर है | संक्षेप में, मैं अपनी इस प्रतिज्ञा पर दृढ़ हूँ कि वेदों में गोमांस
भक्षण का समर्थक एक भी मंत्र प्रमाणित करने पर मैं हर उस मार्ग को स्वीकार करने के
लिए तैयार हूँ जो मेरे लिए नियत किया जाएगा अन्यथा वे वेदों की ओर वापिस लौटें
|

You may like:

आर्यों
को सन्देश
अकबर
से महान कौन?
बाबरी
ढांचा विध्वंस – हिन्दू मुस्लिम �…

कौन थीं कृष्ण की 16100 रानियां?.


श्रीकृष्ण का नाम आते ही हमारे मन असीम  प्रेम उमड़ता है। सभी जानते हैं कि असंख्य गोपियां थी जो श्रीकृष्ण से  अनन्य प्रेम करती थीं। परंतु उनकी शादी श्रीकृष्ण से नहीं हो सकी।  श्रीकृष्ण की प्रमुख पटरानी रुकमणी पटरानी रुकमणी सहित उनकी 8 पटरानियां  एवं 16100 रानियां थीं। कुछ विद्वानों का यह मत है कि कृष्ण की प्रमुख  रानियां तो आठ ही थीं, शेष 16,100 रानियां प्रतीकात्मक थीं।

इन्हें वेदों  की ऋचाएं माना गया है। ऐसा माना जाता है चारों वेदों में कुल एक लाख श्लोक  हैं। इनमें से 80 हजार श्लोक यज्ञ के हैं, चार हजार श्लोक पराशक्तियों के  हैं।

शेष 16 हजार श्लोक ही गृहस्थों या आम लोगों के उपयोग के अर्थात भक्ति  के हैं। इन श्लोकों को ऋचाए कहा गया है, ये ऋचाएं ही भगवान कृष्ण की  पत्नियां थीं।

श्रीकृष्ण की प्रत्येक रानी से 10-10 पुत्र एवं प्रत्येक  रानी से 1-1 पुत्री का जन्म हुआ।

Use Your Body to Help You Reach People


I have studied Desmond Morris a Father of Body Language and read all his books when I was kid and as my family is full of Journalist Desmond Morris was introduced to me before I read any book.

I believe in subject my Bloger friend has done excellent job in this article so with ought taking any time i am reposting this article from http://www.citizenwarrior.com/ as it is.    SAM HINDU

Use Your Body to Help You Reach People
Tuesday, November 9
SO YOU want to educate your fellow non-Muslims about Islam. Excellent. Bravo. And sometimes you have a difficult time getting the message across. They seem to turn against you. They want to reject your message. You lose rapport. It can sometimes be upsetting.

People who also need to gain rapport so that they can influence others (therapists) have discovered many clever ways to gain rapport and prevent losing it. One of those ways is by using your body.

I want you to try an experiment today and tomorrow. You’ll be talking with many people in the next two days. Here’s what I want you to do: Every time you are talking to someone, notice how they are positioning their body, and make your body’s position similar to theirs.

You don’t have to match it perfectly, although they probably wouldn’t notice if you did. But if the person’s head is tilted slightly, tilt yours slightly. If the person has all his weight on one leg and the other one slightly bent, do the same.

Notice how he has positioned his arms and hands. Make yours somewhat similar. Notice his posture. Make yours similar.

This is one of many ways to gain and keep rapport with someone. We’ll be covering other ways in the next few weeks. But for now, just concentrate on your body, and see what happens.

What will happen is that people will respond to you better. They will feel closer to you without knowing why. And oddly enough, you will feel closer to them. Over the next couple of days, concentrate on this. If you keep it up, it will begin to come naturally. At that point, you will have increased your ability to influence people.

If we want to reach people, if we want them to listen to us, if we want our message to penetrate, gaining rapport is a skill worth learning. And using your body is a good place to start.

%d bloggers like this: